ये हैं आज के 10 सबसे मजेदार जोक्स, पढ़कर आप का मूड हो जाएगा मस्त

Crazy Engineer Jul 13, 2018

दोस्त वैसे तो में जनता हुं की आज के समय हर किसी की जिंदगी टेंशन और बस टेंशन में ही बीत रही है. जो ग़रीब है उसे पैसे की टेंशन और जिसके पास पैसे है उसे कोई और टेंशन, जिसके पास गर्लफ़्रेंड है उसे उसकी टेंशन और जिसके पास नहीं है उसे ये टेंशन की में गर्लफ़्रेंड बनाऊ कैसे, क्यों दोस्तों सही बोल रहा हुं या फिर गलत आप ही बताओ. तो आज में आपके सामने कुछ ऐसी तस्वीरें ले कर आया हुं जिन्हे पढ़कर आप सभी की सारी टेंशन खत्म हो जाएगी और आपको मज़ा ही आ जायेगा. चलिए दोस्तों तो शुरू करते है.

आजकल जिसे देखो अपनी बीवी के पीछे ही पड़ा रहता है अब आप ही बताओ दोस्तों जब मन पति का कर रहा है तो पति भी तो बना कर अपनी पत्नी को खिला सकता था ऐसा ज़रूरी तो नहीं था की पत्नी ही बनाये और पति को खिलाये. बोलो भाइयों और बहनों कुछ गलत बोल रहा हुं क्या में?

हाँ भाई जैसे जैसे समय आगे बढ़ रहा है इंटरनेट के ऊपर डाटा भी बढ़ता ही जा रहा है. पहले जो फिल्म हम 100 एम् बी से काम चला लेते थे अब तो फिल्म भी सभी को एच डी में चाहिए होती है, तो फिर एक जी बी एक दिन का कहा पता चल पायेगा मेरे दोस्तों आप ही बताओ. और फिर आगे तो लगता है अभी और डाटा खत्म हुंआ करेगा.

जब साली अपने जीजू को ऐसे किस कर दे तो जीजू तो यही बोलेगा न की अच्छे दिन आ रहे है ये थोड़ी नहीं बोलेगा की मुझे मज़ा नहीं आएगा. आपकी ही साली आपको किस कर दे तो आपको भी तो अच्छा ही लगेगा आप भी यही कहेंगे की हाँ कृपया आ रही है.

वैसे तो हर कोई ऐसे ही जोक बनाता रहता है पर जब पत्नी कही चली जाती है थोड़े दिन तो पता चलता है की आखिर पत्नी होती क्या है और उसके बिना घर कैसे चलता है. जब पत्नी माईके जाती है थोड़े दिन तो जब तक आ नहीं जाती है तब तक दिल ही नहीं लगता है.

लगता है ये जोक किसी ऐसे आदमी ने बनाया है जिसने हवालात की हवा कुछ ज्यादा ही खायी है तभी तो वो ये सब कुछ ज्यादा ही भली भाँती जनता है अगर ऐसा नहीं होता तो भला उसे कैसे पता होता की हवालात का मतलब यही होता है. और हाँ दोस्तों अब जेल बदल गयी है अब लात नहीं पड़ती है पिटाई की भी मशीन आ गयी है बटन चालू कर के चले जाओ और वापिस आओ तो सब कुछ कबूल होता है.

अब ये तो कहने की बात है की दूध पीने से दिमाग तेज़ होता है, पर क्या पता होता भी हो दिमाग तेज़ पर अगर सच में ऐसा होता तो आज गाय और भैंस के बच्चे ही नासा में होते और कोई भी नहीं होता. क्यों दोस्तों सही बोल रहा हुं या फिर गलत.

वैसे तो लोग पागल है ही और छोटी सी बात का भी बतंगड़ कैसे बनाया जाता है इस बात को भी भली भांति जानते भी है. और में तो इतना ही कहना चाहता हुं की अगर ऐसे ही चलने वाली चीज़े यहाँ वाह जाने लग जाए तो समझ ले की हो बैठा विकास फिर तो एक आदमी इन्ही चीज़ो को ढूंढने को लग जायेगा.

पहले हुंआ करता था की गांव वाले अन पढ़ होते थे और सेहर वाले पढ़े लिखे. अब जमाना बदल गया है अब गांव हो या फिर हो सेहर हर जगह सभी आपको पढ़े लिखे ही मिलेंगे. अब तो गांव में बच्चे ज्यादा पढ़ जाते है और सेहरो में बच्चे कम पढ़े रह जाते है. क्योंकि गांव में नौकरी के साधन कम है तो बच्चा पढ़ता ही जाता है .

जब बहु आती है तो सास सोचती है की अब कोई चिंता नहीं रहेगी अब तो बहु ही करेगी जो भी करेगी और हम आराम ही करेंगे बस. पर ऐसा होता नहीं है आजकल तो सास काम करती है और बहु आराम करती है. आजकल बहु चाहती है की उसका बेटा उसके साथ रहे साथ में ये भी चाहती है उसके पति की माँ साथ में न रहे तो अच्छा है.

हाँ यही रह गया था सुनने को बाकी तो सभी कुछ सुन ही लिया था. अब ज़रूरी थोड़ी है हर कोई ये सब खाता ही हो. कुछ लोग मेरे जैसे भी होते है जो की कोई भी नशा नहीं करते है. अब मेरी पत्नी ऐसे बैठे तो इसका ये मतलब थोड़ी हो गया की वो इसलिए बैठी है की मेरी जेब से समान न गिर जाए.

wemedia logo Powered by RozBuzz Wemedia

RELATED ARTICLE